Fireman Course

Fireman Course

फायर करियर :-
पिछले कुछ सालों में फायर इंजीनियरिंग करियर का एक बेहतरीन विकल्प बनकर उभरा है। लगातार बढ़ रही आगजनी की घटनाओं के चलते अब प्रोफेशनल फायर इंजीनियरों की मांग बहुत बढ़ गई है। फायर इंजीनियरिंग एक ऐसी फिल्ड है जिसमें आग लगने के प्रकार, आग बुझाने के तरीके, आग बुझाने के इक्वीपमेंट, आग में घिरे लोगों को सुरक्षित बाहर निकालना आदि बातों का प्रशिक्षण दिया जाता है। ये एक ऐसी फिल्ड है जिसमें आपको आग बुझाने के लिए साहस और सूझबूझ का प्रशिक्षण दिया जाता है। इंजीनियरिंग की बाकी फिल्ड की तरह इसमें भी करियर की बेहतरीन संभावनाएं है, इस क्षेत्र में फायरमैन से लेकर चीफ फायर अफसर जैसे पदों पर काम किया जा सकता है।


शैक्षणिक और शारीरिक योग्यता-

फायरमैन बनने के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10 वीं कक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए. इसके साथ ही,फायर इंजीनियरिंग के डिग्री और डिप्लोमा कोर्स होना जरूरी है। उम्मीदवार को सभी प्रकार के फायर एक्टींग्विशर्स, होज फिटिंग और फायर एप्लाइंसेस व उपकरणों, फायर इंजन, ट्रेलर, पम्प को चलाने में सक्षम होना चाहिए. फायरमैन को अलग-अलग तरह से आगजनी के मामलों से निपटने के तरीकों से प्रशिक्षित होना चाहिए. सिविल या डिफेंस फायर ब्रिगेड में कार्य कर चुके उम्मीदवारों को वरीयता दी जाती है.इसके अलावा फायर इंजीनियरिंग में करियर बनाने के लिए शारीरिक योग्यता भी देखी जाती है, पुरूषों के लिए न्यनतम लंबाई 165 सेंमी. वजन 50 किग्रा., वहीं महिलाओं के लिए न्यूनतम लंबाई 157 सेंमी. और वजन 46 किग्रा. होना चाहिए। आखों की बात करें तो नजरें दोनों के लिए 6/6 होनी चाहिए

फायर एंड सेफ्टी कोर्स करने के बाद?
फायर इंजीनियर
फायर सब अफसर
फायरमैन
फायर ऑपरेटर
फायर इंजन ड्राइवर
सेफ्टी इंचार्ज
डिप्टी चीफ फायर अफसर
सेफ्टी मैनेजर
सेफ्टी अफसर
फायर सेफ्टी सुपरवाइजर

कोर्स करने के बाद? जॉब के कौन कौन से विकल्प है
टेक्सटाइल कॉटन इंडस्ट्रीज
नगर पालिका
इंडियन नेवी
एयर फ़ोर्स
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र,
नगर निगम
थर्मल पावर स्टेशन
एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया
एयरपोर्ट